आधयात्मिक मूल्यों के लिए समर्पित सामाजिक सरोकारों की साहित्यिक पत्रिका.

Monday, October 27, 2008

दिवाली की शुभ कामनाएं




हो तिमिर का शमन।
सत्य का आलोक हो।
ना रहे नफ़रत कहीं .
बस प्रेम ही प्रेम हो।
आओ मिल आवली बनाएं .
हर दिल में एक दीप जलाएं ॥

4 comments:

Joy said...

Happy diwali

ashish said...

Very happy diwali

ashish said...

agar hamarein man main ke sawal aaye ya koe vichar aaye to hum apko kaise likh sakhte hai

SANJAY SINGH said...

Dhanyavaad joy and ashishji
Agar koi Prashna hai to comments ki jagah prashna likh den.